Why Is Lord Shiva known as Neelkanth?

During Samudra Manthan or Churning of the Ocean, among other valuable things that came out of the ocean such as Kaamdhenu Cow, Dhanvantari Ji, Parijata Tree, Airavat the Elephant and the Pot of Amrit, a deadly poison called Halahal also emerged. It was so deadly that it could kill anyone and anything it came in contact with. Lord Shiva then stepped forward as the saviour and said that he would consume the halahal. 

As Lord Shiva started drinking the halahal, his neck started turning blue and his body started getting heated. To stop the poison from spreading to other parts of his body, Maa Parvati stepped in and placed her hand on his throat. The poison stopped spreading to other parts of Lord Shiva's body and got contained in his throat. Ever since then, he came to be known as Neelkanth, which literally means, the one with the Blue Throat.

समुद्र मंथन के समय, कामधेनु गाय, धन्वंतरि जी, पारिजात वृक्ष, ऐरावत हाथी और अमृत जैसी अन्य मूल्यवान वस्तुओं के अलावा, हलाहल नामक एक घातक जहर भी उभरा। हलाहल इतना घातक था कि संपर्क में आने से यह किसी को भी मार सकता था। तब भगवान शिव ने रक्षक के रूप में आगे कदम बढ़ाया और कहा कि वह हलाहल का उपभोग करेंगे।

जैसे ही भगवान शिव ने हलाहल पीना शुरू किया, उनकी गर्दन नीली पड़ने लगी और उनका शरीर गर्म होने लगा। जहर को भगवान शिव के शरीर के अन्य भागों में फैलने से रोकने के लिए, माँ पार्वती ने अपना हाथ उनके गले पर रख दिया। विष भगवान शिव के शरीर के अन्य भागों में फैलना बंद हुआ और उनके गले में समा गया। तब से, उन्हें नीलकंठ के नाम से जाना जाने लगा। नीलकंठ का शाब्दिक अर्थ है - नीले गले वाला।